Friday, January 2, 2009

बेवफाई ...

डर लगने लगा है अपनी परछाइयों से !
टूटता जा रहा हूँ अपनों की बेवफाइयों!!
जी चाहता है कि उनसे शिकवे करूं !
समझ नहीं आता पेश कैसे करूं !!
बेवफाई का कैसा ये अंदाज़ है !
समझ नहीं आता इसमें क्या राज है!!
कल तक तो साथ जाम छलकते थे !
साथ पी के सडकों में हम बहेकते थे !!
आज पैमाना लिए करते इन्तजार हैं !
वो दूसरी महफिलों में मसरूफ करते हमे बेजार हैं !!
सोचते हैं बिना उनके तबियत ढल जायेगी !
अरे हमको भी नयी महफ़िल मिल जायेगी !!

2 comments:

  1. Good one, A little different from others but really good one.

    ReplyDelete